clonazepam in Hindi.

क्लोनाज़ेपम डॉक्टरों के द्वारा लिखे जाने वाली दवा है। यह दवा मुख्य रूप से किसी भी प्रकार के दौरे आने की प्रवृत्ति को नियंत्रित करता है। क्लोनाज़ेपम एंटीकंवलसेन्ट या एंट्रीएपिलेप्टिक समूह की दवा है जो मिर्गी के दौरान दौरे आने की प्रवृत्ति को नियंत्रित करता है। इस दवा का इस्तेमाल पैनिक अटैक्स के उपचारों में भी किया जाता है जो अनिद्रा के लक्षणों से संबंधित है।

और पढ़ें. Ondansetron dose | Perinorm dose

क्लोनाज़ेपम काम कैसे करता है।

हमारे मस्तिष्क में एक कॉमिक रसायन को सक्रिय करता है जो मुख्य रूप से दौरे की समस्या, डरने की अवस्था, फीट आने की समस्या, मांसपेशियों में जकड़न की अवस्था को दूर करने में मदद करता है।

और पढ़ें. (संक्रामक रोग) फैलने का मुख्या कारण और रोक-थाम

क्लोनाज़ेपम का उपयोग। : Clonazepam uses in Hindi

मुख्य रूप से मस्तिष्क संबंधित विकारों में की जाती है। कुछ निम्नलिखित समस्याएं निचे है जिसमें क्लोनाज़ेपम इस्तेमाल की जाती है। 

मिर्गी की समस्या (Seizures) :

मिर्गी की समस्या एक जटिल समस्या मानी जाती है और यह मस्तिक संबंधित विकारों से जुड़ी हुई है। जिन व्यक्तियों में मिर्गी की समस्या होती है उनमें कई ऐसे लक्षण उभरते हैं जो मिर्गी को व्यक्त कर सकते हैं उनमें से एक प्रमुख लक्षण दौरे को माना जाता है। मिर्गी की समस्या के दौरान जो दौरे उत्पन्न होते हैं उनमें क्लोनाज़ेपम का इस्तेमाल बेहतर माना जाता है।

और पढ़ें. Renerve plus capsule

इंवॉलंटरी मसल्स स्पस्ं (Involuntary muscles spasm) :

इंवॉलंटरी मसल्स स्पस्ं भी मस्तिक संबंधित विकारों से जुड़ी हुई समस्या है। इस समस्या में इंवॉलंटरी मांसपेशियों में जकड़न महसूस होती है और उस जकड़न के कारण दर्द का अनुभव होने लगता है जिसे क्लोनाज़ेपम के द्वारा खत्म करने मेंं मदद की जाती है।

और पढ़ें. गर्भावस्था के दौरान उल्टी और मतली की दवाइयां

डरने की अवस्था (Panic disorder):

यह भी मस्तिक संबंधित विकारों से जुड़ी हुई समस्या है। इस समस्या के दौरान मनुष्य भयभीत, डरा, सहमा महसूस करते रहता है। जिसके दौरान शरीर में पसीना निकलना, सांस तेज चलना, हृदय गति तेज होना इत्यादि लक्षण दिखने लगते हैं। डरने की अवस्था में भी इस दवा का इस्तेमाल बेहतर माना जाता है जो डरने की अवस्था को खत्म करने में मदद करता है।

और पढ़ें. गर्भावस्था के दौरान आवश्यक वैक्सीन

नींद ना आने की अवस्था (Insomnia):

नींद ना आने की अवस्था भी मस्तिक संबंधित विकारों से जुड़ी हुई समस्या है। इस समस्या को खत्म करने में भी क्लोनाज़ेपम मददगार साबित होता है।

और पढ़ें. Rifaximin in Hind

चिंता की समस्या (Anxiety):

वैसे लोग जो काफी ज्यादा चिंता करते रहते हैं सोचते रहते हैं तो उस तरह की समस्या में भी क्लोनाज़ेपम चलाई जाती है।

क्लोनाज़ेपम के दुष्प्रभाव : Side effects of clonazepam uses in Hindi.

क्लोनाज़ेपम डॉक्टरों के द्वारा लिखी जाने वाली दवा है। किसी तरह की मस्तिक से जुड़ी हुई समस्याओं में इस दवा का इस्तेमाल खुद से ना करें। हालांकि क्लोनाज़ेपम का दुष्प्रभाव सभी व्यक्तियों पर नहीं देखा गया है लेकिन इसके कुछ सामान्य दुष्प्रभाव और कुछ गंभीर दुष्प्रभाव भी देखे गए हैं जो निम्नलिखित है।  

  • मतली 
  • त्वचा पर चकत्ते निकलना 
  • चेहरे का सूजन 
  • होठों का सूजन 
  • जीभ का सूजन 
  • नींद आना 
  • सांस लेने में कठिनाई

 कुछ सावधानियां : Precaution from clonazepam uses in Hindi.

  • लंबे समय तक इस दवा का इस्तेमाल एक आदत के रूप में भी लग सकती है। हालांकि 2 से 4 सप्ताह के लिए इस दवा का इस्तेमाल करना सुरक्षित माना जाता है और इसकी आदत भी नहीं लगती है। 
  • अगर आप इस दवा का इस्तेमाल 2 से 4 सप्ताह के लिए करते हैं तो इस दवा का इस्तेमाल अचानक बंद नहीं किया जाना चाहिए। इस दवा का इस्तेमाल इस की खुराक को धीरे धीरे कम कर के बंद करने की सलाह दी जाती है। 
  • इस दवा का इस्तेमाल करने के दौरान अल्कोहल यानी दारू का इस्तेमाल नहीं करें।
  • इस दवा का इस्तेमाल 18 वर्ष और उससे ऊपर के लोग कर सकते हैं। हालांकि इस दवा का इस्तेमाल मिर्गी के दौरान बच्चों में भी सुरक्षित माना गया है। 
  • इसका इस्तेमाल 1 महीने और उससे ऊपर के बच्चों में मिर्गी के दौरान की जा सकती है। 
  • क्लोनाज़ेपम की एक खुराक भी इस्तेमाल की जा सकती है और दिन में तीन खुराक भी इस्तेमाल की जा सकती है।

क्लोनाज़ेपम की खुराक : Dosage of clonazepam uses in Hindi.

यह डॉक्टर के द्वारा लिखी जाने वाली दवा है और इस दवा का इस्तेमाल करने से पहले अपने नजदीकी डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। 

क्लोनाज़ेपम की खुराक सभी बीमारियों में अलग-अलग हो सकती है इस दवा की खुराक बीमारी की जटिलता पर भी निर्भर करती है।

और पढ़ें. B ve Phos

  • वयस्कों में इसकी खुराक : Adult Dose of clonazepam uses in Hindi.

1.5 mg प्रतिदिन प्रत्येक 8 घंटे के अंतराल पर 

क्लोनाज़ेपम की खुराक 3 दिनों में .5 से 1mg बढ़ाई जा सकती है।

 निरंतर चलने वाली खुराक

2 mg से 8 mg प्रतिदिन 8 घण्टे के अन्तराल पर।

अधिकतम खुराक 20 mg प्रतिदिन

  • बच्चों में क्लोनाज़ेपम की खुराक : Children Dose of clonazepam uses in Hindi.

0.01 से 0.03 mg/kg/day 8 घण्टे के अन्तराल पर।

क्लोनाज़ेपम की खुराक 3 दिनों में .25 से .5mg बढ़ाई जा सकती है।

अधिकतम खुराक  0.1mg to 0.2mg/kg/day प्रतिदिन

क्लोनाज़ेपम के दूसरे ब्रांड्स : Clonazepam brands in India.

दूसरे ब्रांड्सनिर्माता कंपनी
Ozepam .5mg tabletIpica pharmaceuticals
Lonazep .5mg tabletSun Pharma
Petril tabletMicro lab
Sezolep tabletWockhardt
Zapiz tabletIntas pharma
ZicamUnichem

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल 

प्रश्न: क्या क्लोनाज़ेपम का इस्तेमाल लंबे समय के लिए की जा सकती है? 

उत्तर: हां डॉक्टरों की सलाह के अनुसार क्लोनाज़ेपम का इस्तेमाल डॉक्टरों की निगरानी में लंबे समय के लिए भी की जा सकती है। 

प्रश्न: इस दवा का इस्तेमाल अचानक बंद की जा सकती है?

उत्तर: नहीं इस दवा का इस्तेमाल अचानक बंद नहीं किया जाना चाहिए। 

प्रश्न: इस दवा का इस्तेमाल गर्भवती महिलाओं में की जा सकती है? 

गर्भवती महिलाओं पर किसी भी दवा का इस्तेमाल करने से पहले अपने नजदीकी डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

प्रश्न: क्या इस दवा का इस्तेमाल सभी प्रकार के मस्तिक विकार समस्याओं में की जाती है? 

उत्तर: सभी तरह के मस्तिक विकार की समस्याएं अलग-अलग होती हैं बेहतर होगा दवा चलाने से पहले आप अपने नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.